Shayari RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

वादा

sher on promise

जिसे देखो अपना ही दर्द बेचने निकला है

अजीब बाज़ार है कोई खरीदार नहीं दिखता

 

More from: Shayari
31879

ज्योतिष लेख