Astrology RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

दूध के दांत बचा सकते हैं जिंदगी

baby teeth, baby teeth can save life

30 मार्च 2012

नई दिल्ली   |  क्या आपके बच्चे के दूध के दांत टूटने वाले हैं.. तो उन्हें फेंकने की बजाए आप उन्हें डेंटल स्टेम सेल बैंक में भविष्य में इस्तेमाल के लिए सहेज कर रख सकते हैं। बच्चे के आगे के जीवन में गम्भीर बीमारियों की दशा में ये दांत स्टेम कोशिकाओं के निर्माण में प्रयुक्त हो सकते हैं। भारत में डेंटल स्टेम सेल बैंकिंग नई है लेकिन फिर भी इसे अम्बलीकल कॉर्ड ब्लड बैंकिंग की अपेक्षा अधिक कारगर विकल्प माना जा रहा है।

स्टेम सेल थेरेपी में मरीज के शरीर के क्षतिग्रस्त ऊतकों में या घाव में स्वस्थ व नई कोशिकाएं स्थापित की जाती हैं।

स्टेमेड बायोटेक के संस्थापक व प्रबंध निदेशक शैलेष गडरे ने  कहा, "अम्बलीकल कॉर्ड रक्त सम्बंधी कोशिकाओं की अच्छी स्रोत है। खून सम्बंधी बीमारियों जैसे रक्त कैंसर में इनका इस्तेमाल किया जा सकता है। वैसे कहा जाता है कि सभी बीमारियों में रक्त सम्बंधी बीमारियां केवल चार प्रतिशत ही होती हैं।"

उन्होंने कहा, "बची हुई 96 प्रतिशत ऊतक सम्बंधी बीमारियों के लिए ऊतक सम्बंधी स्टेम कोशिकाएं हासिल करने को दांत एक अच्छा स्रोत हो सकते हैं। ये कोशिकाएं शरीर के सभी प्रकार के ऊतकों में प्रयुक्त हो सकती हैं। उदाहरण के तौर पर अल्जाइमर बीमारी की स्थिति में मस्तिष्क में, पार्किं संस बीमारी होने पर आंख में, सिरोसिस होने पर लीवर में, मधुमेह होने पर अग्नाशय में व फ्रैक्चर की दशा में हड्डियों के अलावा त्वचा में भी इनका इस्तेमाल हो सकता है।"

ऊतक सम्बंधी कोशिकाओं का दिल की कोशिकाओं के पुनर्निमाण में भी इस्तेमाल हो सकता है।

बच्चों के दांत सम्बंधी रोगों की विशेषज्ञ सविता मेनन कहती हैं कि पांच से 12 साल उम्र के बच्चों के दूध के दांतों से स्टेम कोशिकाएं आसानी से निकाली जा सकती हैं। इसके लिए जब बच्चे का कोई दांत हिलने लगे तब उसे निकालकर उससे बिना किसी शल्यक्रिया के स्टेम कोशिकाएं इकट्ठी की जा सकती हैं।

भारत में डेंटल स्टेम सेल बैंकिंग की सुविधा देने वाली कम्पनियों की संख्या अभी बहुत कम हैं। इनमें स्टेमेड व स्टोर योर सेल्स जैसी कम्पनियां शामिल हैं। स्टेम कोशिकाओं को 21 साल की अवधि तक संरक्षित रखने पर करीब 100,000 रुपये का खर्च आ सकता है।

More from: Astrology
30177

ज्योतिष लेख