Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

भारतीय सिनेमा का स्वर्णिम दौर अब है : वहीदा

current period is good for bollywood says wahida rehman

16 अक्टूबर 2012


मुम्बई। 'गाइड' व 'कागज के फूल' जैसी सदाबहार फिल्मों की नायिका वहीदा रहमान मानती हैं कि भारतीय सिनेमा का स्वर्णिम दौर उनके अभिनय के दिनों में नहीं था बल्कि आज है।


वहीदा कहती हैं कि भारतीय फिल्मों को विश्व स्तर पर मिल रही प्रशंसा और उनमें विषयों, अभिनय व प्रौद्योगिकी के स्तर पर आए निखार के आधार पर आज के दौर को भारतीय सिनेमा का स्वर्णिम दौर कहा जाएगा।


76 वर्षीया वहीदा ने कहा, "लोग मेरे पास आते हैं और कहते हैं कि जब मैंने फिल्में कीं तब सिनेमा का स्वर्णिम युग था लेकिन मैं इससे सहमत नहीं हूं। अब जब हमारी फिल्में दुनियाभर में सराही जा रही हैं, तो मैं समझती हूं कि स्वर्णिम युग अब है।"


वहीदा 1956 में प्रदर्शित 'सीआईडी' से हिंदी सिनेमा में शुरुआत करने से पहले तेलुगू व तमिल फिल्मों की सफल अभिनेत्री थीं। बाद में उन्होंने हिंदी में 'प्यासा', '12 ओ'क्लॉक', 'कागज के फूल', 'साहिब बीबी और गुलाम', 'चौदहवीं का चांद', 'तीसरी कसम' और 'मुझे जीने दो' जैसी महत्वपूर्ण फिल्में दीं।


फिल्मोद्योग में पांच दशक बिता चुकीं वहीदा मानती हैं कि यहां सकारात्मक बदलाव हुए हैं।


उन्होंने कहा, "फिल्मोद्योग में कई अच्छे बदलाव हुए हैं, तकनीक, विषय व अभिनय के क्षेत्र में ये बदलाव हुए हैं। यहां 'द डर्टी पिक्चर', 'कहानी', 'ब्लैक', 'पान सिंह तोमर' और 'पीपली लाइव' जैसी बहुत अच्छी फिल्में बनी हैं।"


वहीदा ने कहा, "लेकिन यहां बहुत अनिश्चितता भी है। फिल्में बहुत खर्चीली हो गई हैं और सौभाग्य से उनके प्रदर्शन के एक सप्ताह के अंदर ही उनमें लगा पैसा वापस मिल जाता है। लेकिन यह पैसों का सवाल नहीं है, यह फिल्मों की गुणवत्ता का भी सवाल है।"


उन्होंने आज कल के कलाकारों के हर तरह की भूमिकाएं निभाने की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा, "हमारे समय में छोटे से नकारात्मक किरदार के लिए भी लोग मना कर देते थे। उनका कहना होता था कि वह मुख्य नायिका हैं और वह यह संवाद कैसे बोल सकती हैं या किसी को थप्पड़ कैसे लगा सकती हैं।"


वैसे खुद वहीदा ने अलग तरह की भूमिकाओं से इंकार नहीं किया और इसका उदाहरण देवानंद के साथ आई उनकी फिल्म 'गाइड' है।


उन्होंने 'मशाल' व 'नमक हलाल' में चरित्र भूमिकाएं निभाई हैं। वर्ष 1991 में आई 'लम्हे' के बाद फिल्मी दुनिया से दूर हुईं वहीदा ने 11 साल के अंतराल के बाद 2002 में 'ओम जय जगदीश' और फिर 'रंग दे बसंती' में अभिनय किया। उनकी अंतिम फिल्म 2009 में प्रदर्शित हुई 'दिल्ली 6' थी।


 

More from: samanya
33419

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।