Get free astrology & horoscope 2013
Social Media RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

हाईवे : लघु निबंध

highway-short-essay

कुछ दिनों पहले एक शे’र लिखा था-

कुछ रास्तों की मंज़िल नहीं होती
कुछ सफ़र बेमंज़िल चला करते हैं।

इम्तियाज़ अली की हाईवे से इस शे’र का कोई लेना-देना नहीं है लेकिन दास्तां सफ़र की है। भीतरी और बाहरी यात्रा की। इंसान ज़िंदगी की तमाम जद्दोज़हद और उतार-चढ़ाव के बीच एक यात्रा अपने भीतर करता है, और उस यात्रा की कोई मंज़िल हो-यह ज़रुरी नहीं।

फिल्म में भी अपहृत हुई आलिया भट्ट अपहरण करने वाले महावीर भाटी उर्फ रणदीप हुडा से कहती है--तुम जहां से मुझे लाए हो,वहां मैं दोबारा जाना नहीं चाहती, और जहां ले जा रहे हो, वहां पहुंचना नहीं चाहती।

इम्तियाज़ अली ने एक 20 साल की लड़की के अपहरण होने की दास्तां को परत-दर-परत कई स्तरों पर उधेड़ दिया है। इस कहानी में समाज के दो हिस्सों की अपनी अपनी त्रासदी है, इंडिया और भारत के बीच खिंची लकीर है, क्रूरता के पीछे की छिपी संवेदनशीलता है तो मासूमियत और अल्हड़ता के पीछे का दर्द भी।

फिल्म आलिया भट्ट की है, और आलिया ने साबित किया है कि उनमें क्षमताएं अपार हैं। ख़ूबसूरत इतनी कि नज़रें हटती नहीं। निजी तौर पर मनीषा कोइराला के बाद इतनी ख़ूबसूरत कोई नहीं दिखी। घर के भीतर छिपे भेड़ियों की शिकार वीरा का दर्द,वेदना,त्रासदी और सपनों को आलिया ने अपने चेहरों के भावों से अंजाम दिया है।

रणदीप हुडा ने महावीर भाटी ने अपने किरदार को जीया है। उम्र में फासला, अलग स्वभाव और अलग पृष्ठभूमि होने के बावजूद भावुकता की लहरों में बहते दो शख्स अचानक एक हो जाते हैं, और जब वीरा से सीने से लिपटकर महावीर रोता है तो याद आता है जावेद अख़्तर का शे’र-

अपने महबूब में अपनी माँ को देखे
बिन माँ के बच्चों की फितरत होती है।

मित्र Hemant Mahaur के हिस्से में सिर्फ एक सीन है। लेकिन शानदार। फिल्म के दूसरे ही दृश्य में हेमंत माहौर ने आँखों में गू नहीं...वाले डायलॉग से थिएटर में तालियां बजवा दीं। Saharsh Kumar Shukla ने हमारे समाज में लड़कियों को देखकर लार टपकाने वाले लाखों नौजवानों के हरामीपन को पर्दे पर उतारा है। दोनों को बधाई ....

फिल्म में गुदगुदाने वाले सीन हैं लेकिन फिल्म भावुकता से लबरेज है। संवेदनशील है। बच्चों के घर में घटने वाली यौन हिंसा के गंभीर सवाल को उठाती है। और सोचने को मजबूर करती है कि क्या हम इस बाबत सोच पा रहे हैं और क्या इस समस्या का सामना कर पाते हैं? फिल्म देखने लायक है और अगर नहीं देखी तो देखनी चाहिए।

More from: SocialMedia
36402

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।