Jyotish RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

शुभ विवाह मुहूर्त 2019

शुभ विवाह मुहूर्त 2019 से जानें साल 2019 में एक खुशहाल वैवाहिक जीवन के लिए कौन से दिन, तारीख और नक्षत्र में करें शादी। साथ ही इस लेख के जरिये हम आपको बताएंगे की क्या हैं विवाह के शुभ मुहूर्त का महत्व।

शुभ विवाह मुहूर्त 2019

विवाह मुहूर्त 2019
दिनांक दिन तिथि नक्षत्र विवाह मुहूर्त की अवधि
15 जनवरी 2019 मंगलवार नवमी अश्विनी नक्षत्र में 07:15 - 13:56 बजे तक
17 जनवरी 2019 गुरुवार एकादशी रोहिणी नक्षत्र में 22:34 - 31:15 बजे तक
18 जनवरी 2019 शुक्रवार द्वादशी रोहिणी नक्षत्र में 07: 15 - 12:25 बजे तक
22 जनवरी 2019 मंगलवार द्वितीया मघा नक्षत्र में 24:20 - 31:14 बजे तक
23 जनवरी 2019 बुधवार तृतीया मघा नक्षत्र में 07: 14 - 13:41 बजे तक
25 जनवरी 2019 शुक्रवार पंचमी हस्त नक्षत्र में 16: 25 - 31: 14 बजे तक
26 जनवरी 2019 शनिवार षष्ठी हस्त नक्षत्र में 07:13 - 16:19 बजे तक
चित्रा नक्षत्र में 27:35 - 31:12 बजे तक
27 जनवरी 2019 रविवार सप्तमी चित्रा नक्षत्र में 07:12 - 09:28, 11:28 - 14:24 बजे तक
29 जनवरी 2019 मंगलवार नवमी अनुराधा नक्षत्र में 15:14 - 27:02 बजे तक
30 जनवरी 2019 बुधवार दशमी अनुराधा नक्षत्र में 15:38 - 16:40 बजे तक
05 फरवरी 2019 मंगलवार प्रतिपदा धनिष्ठा नक्षत्र में 29:15 - 31:07 बजे तक
06 फरवरी 2019 बुधवार द्वितीया धनिष्ठा नक्षत्र में 07:07 - 09:08 बजे तक
08 फरवरी 2019 शुक्रवार तृतीया उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 14: 58 - 23:25 बजे तक
09 फरवरी 2019 शनिवार चतुर्थी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 12:26 - 17:30 बजे तक
रेवती नक्षत्र में 17:30 - 31:04 बजे तक
10 फरवरी 2019 रविवार पंचमी रेवती नक्षत्र में 07:04 - 18:49 बजे तक
14 फरवरी 2019 गुरुवार नवमी रोहिणी नक्षत्र में 07:01 - 08:33 बजे तक
19 फरवरी 2019 मंगलवार पूर्णिमा मघा नक्षत्र में 14:12 - 30:56 बजे तक
20 फरवरी 2019 बुधवार प्रतिपदा मघा नक्षत्र में 06:56 - 08:00 बजे तक
उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 29:04 - 30:55 बजे तक
21 फरवरी 2019 गुरुवार द्वितीया उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 06:55 - 23:21 बजे तक
22 फरवरी 2019 शुक्रवार तृतीया चित्रा नक्षत्र में 24:17 - 29:51 बजे तक
3 मार्च 2019 रविवार द्वादशी श्रवण नक्षत्र में 08:59 - 12:29 बजे तक
7 मार्च 2019 गुरुवार प्रतिपदा उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 23:44 - 30:40 बजे तक
8 मार्च 2019 शुक्रवार द्वितीया उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 06:40 - 23:16 बजे तक
रेवती नक्षत्र में 23:16 - 30:38 बजे तक
9 मार्च 2019 शनिवार तृतीया रेवती नक्षत्र में 06:38 - 21: 39 बजे तक
अश्विनी नक्षत्र में 26:35 - 30:37 बजे तक
10 मार्च 2019 रविवार चतुर्थी अश्विनी नक्षत्र में 06:37 - 15:38 बजे तक
12 मार्च 2019 मंगलवार षष्ठी रोहिणी नक्षत्र में 28:53- 29 32 बजे तक
15 अप्रैल 2019 सोमवार दशमी मघा नक्षत्र में 07:23 - 14:39 बजे तक
16 अप्रैल 2019 मंगलवार द्वादशी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 25:50 - 29:54 बजे तक
17 अप्रैल 2019 बुधवार त्रयोदशी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 05:54 - 18:31, 22:07 - 23:35 बजे तक
हस्त नक्षत्र में 23:35 - 29:53 बजे तक
18 अप्रैल 2019 गुरुवार चतुर्दशी हस्त नक्षत्र में 05:53 - 10:29, 15:57 - 19:26 बजे तक
19 अप्रैल 2019 शुक्रवार पूर्णिमा चित्रा नक्षत्र में 06:02 - 11:32, 12:44 - 19:29 बजे तक
स्वाति नक्षत्र में 19:29 - 29:51 बजे तक
20 अप्रैल 2019 शनिवार एकादशी स्वाति नक्षत्र में 05:51 - 17:58 बजे तक
22 अप्रैल 2019 सोमवार तृतीया अनुराधा नक्षत्र में 11:25 - 16:45 बजे तक
26 अप्रैल 2019 शुक्रवार सप्तमी श्रवण नक्षत्र में 23:14 - 29:45 बजे तक
27 अप्रैल 2019 शनिवार अष्टमी श्रवण नक्षत्र में 05:45 - 26:12 बजे तक
धनिष्ठा नक्षत्र में 26:12 - 29:44 बजे तक
28 अप्रैल 2019 रविवार नवमी धनिष्ठा नक्षत्र में 05:44 - 25:42 बजे तक
6 मई 2019 सोमवार द्वितीया रोहिणी नक्षत्र में 16:36 - 25:13, 27:37 - 29:36 बजे तक
7 मई 2019 मंगलवार तृतीया रोहिणी नक्षत्र में 05:36 -16:27 बजे तक
12 मई 2019 रविवार अष्टमी मघा नक्षत्र में 12:43 - 29:32 बजे तक
13 मई 2019 सोमवार नवमी मघा नक्षत्र में 05:32 - 08:16 बजे तक
16 मई 2019 गुरुवार द्वादशी हस्त नक्षत्र में 05:30-05:42 बजे तक
चित्रा नक्षत्र में 05:42-11:55 बजे तक
17 मई 2019 शुक्रवार त्रयोदशी स्वाति नक्षत्र में 17:36-27:07 बजे तक
18 मई 2019 शनिवार पूर्णिमा अनुराधा नक्षत्र में 26:22-26:41 बजे तक
19 मई 2019 रविवार प्रतिपदा अनुराधा नक्षत्र में 05:29-26:07 बजे तक
23 मई 2019 गुरुवार पंचमी उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में 05:27-23:48 बजे तक
24 मई 2019 शुक्रवार षष्ठी श्रवण नक्षत्र में 11:56-17:19 बजे तक
25 मई 2019 शनिवार षष्ठी श्रवण नक्षत्र में 05:26-06:25 बजे तक
धनिष्ठा नक्षत्र में 19:36-20:26 बजे तक
28 मई 2019 मंगलवार नवमी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 18:58-26:30 बजे तक
29 मई 2019 बुधवार दशमी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 15:21-21:18 बजे तक
रेवती नक्षत्र में 21:18 - 28:04 बजे तक
30 मई 2019 गुरुवार एकादशी रेवती नक्षत्र में 05:24 - 22:15 बजे तक
अश्विनी नक्षत्र में 23:51 - 29:02 बजे तक
31 मई 2019 शुक्रवार द्वादशी अश्विनी नक्षत्र में 05:24 - 17:17 बजे तक
8 जून 2019 शनिवार षष्ठी मघा नक्षत्र में 18:10 - 26:55 बजे तक
9 जून 2019 रविवार सप्तमी मघा नक्षत्र में 05:23 - 14:27, 15:39 - 15:49 बजे तक
10 जून 2019 सोमवार अष्टमी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 14:21 - 22:24 बजे तक
11 जून 2019 मंगलवार नवमी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 05:23 - 08:46 बजे तक
12 जून 2019 बुधवार दशमी हस्त नक्षत्र में 06:06 - 11:51 बजे तक
चित्रा नक्षत्र में 11:51 - 27:37 बजे तक
16 जून 2019 रविवार चतुर्दशी अनुराधा नक्षत्र में 05:23 - 10:07 बजे तक
25 जून 2019 मंगलवार अष्टमी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 05:25 - 29:11 बजे तक
27 जून 2019 गुरुवार नवमी रेवती नक्षत्र में 06:21 - 06:55 बजे तक
अश्विनी नक्षत्र में 08:31 - 18:15 बजे तक
28 जून 2019 शुक्रवार दशमी अश्विनी नक्षत्र में 06:36 - 09:11 बजे तक
6 जुलाई 2019 शनिवार चतुर्थी मघा नक्षत्र में 16:49 - 21:50 बजे तक
7 जुलाई 2019 रविवार पंचमी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 20:13 - 28:44 बजे तक
8 जुलाई 2019 सोमवार षष्ठी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 05:30 - 15:26 बजे तक
हस्त नक्षत्र में 26:02 - 29:31 बजे तक
9 जुलाई 2019 मंगलवार अष्टमी हस्त नक्षत्र में 16:25 - 17:15 बजे तक
चित्रा नक्षत्र में 17:15 - 29:31 बजे तक
10 जुलाई 2019 बुधवार नवमी चित्रा नक्षत्र में 05:31 - 16:22 बजे तक
स्वाति नक्षत्र में 16:22- 29:31 बजे तक
11 जुलाई 2019 गुरुवार दशमी स्वाति नक्षत्र में 05:31 - 15:55 बजे तक
8 नवंबर 2019 शुक्रवार एकादशी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 12:24- 30:39 बजे तक
9 नवंबर 2019 शनिवार द्वादशी उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में 06:39 - 10:14, 11:26 - 14:55 बजे तक
रेवती नक्षत्र में 14:55 - 30:40 बजे तक
10 नवंबर 2019 रविवार त्रयोदशी रेवती नक्षत्र में 06:40 - 16:30 बजे तक
अश्विनी नक्षत्र में 18:06 - 30:41 बजे तक
11 नवंबर 2019 सोमवार चतुर्दशी अश्विनी नक्षत्र में 06:41 - 10:48 बजे तक
13 नवंबर 2019 बुधवार प्रतिपदा रोहिणी नक्षत्र में 22:00 - 30:43 बजे तक
14 नवंबर 2019 गुरुवार द्वितीया रोहिणी नक्षत्र में 06: 43 - 25:11 बजे तक
19 नवंबर 2019 मंगलवार सप्तमी मघा नक्षत्र में 22:10 - 30:48 बजे तक
20 नवंबर 2019 बुधवार अष्टमी मघा नक्षत्र में 06:48 - 19:17 बजे तक
21 नवंबर 2019 गुरुवार नवमी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 18:29 - 22:17 बजे तक
22 नवंबर 2019 शुक्रवार दशमी उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में 09:01 - 16:41 बजे तक
हस्त नक्षत्र में 16:41 - 30:50 बजे तक
23 नवंबर 2019 शनिवार द्वादशी हस्त नक्षत्र में 06:50 - 14:44 बजे तक
चित्रा नक्षत्र में 14:44 - 27:43 बजे तक
28 नवंबर 2019 गुरुवार द्वितीया मूल नक्षत्र में 08:22 - 16:18, 18:18 - 30:55 बजे तक
29 नवंबर 2019 शुक्रवार तृतीया मूल नक्षत्र में 06:55 - 07:33 बजे तक
30 नवंबर 2019 शनिवार चतुर्थी उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में 18:05 - 23:14 बजे तक
1 दिसंबर 2019 रविवार पंचमी श्रवण नक्षत्र में 11:29 - 30:57 बजे तक
2 दिसंबर 2019 सोमवार षष्ठी श्रवण नक्षत्र में 06: 57 - 11:43 बजे तक
धनिष्ठा नक्षत्र में 11:4 3 - 13:37, 17:13 - 30:58 बजे तक
3 दिसंबर 2019 मंगलवार सप्तमी धनिष्ठा नक्षत्र में 06:58 - 14:16 बजे तक
7 दिसंबर 2019 शनिवार एकादशी रेवती नक्षत्र में 17:03 - 19:35 बजे तक
8 दिसंबर 2019 रविवार एकादशी अश्विनी नक्षत्र में 08:29 - 17:15 बजे तक
10 दिसंबर 2019 मंगलवार त्रयोदशी रोहिणी नक्षत्र में 29:57 - 31:04 बजे तक
11 दिसंबर 2019 बुधवार चतुर्दशी रोहिणी नक्षत्र में 07:04 - 10:59, 22:54 - 31:04 बजे तक
12 दिसंबर 2019 गुरुवार पूर्णिमा मृगशिरा नक्षत्र में 07:04 - 30:18 बजे तक

विवाह मुहूर्त

विवाह इस प्रकृति का सबसे महत्वपूर्ण नियम है। भगवान द्वारा बनाए गए जब स्त्री व पुरुष का सामाजिक रूप से मिलान होता है उस प्रक्रिया को विवाह कहते हैं। शादी सिर्फ हिंदू धर्म का ही नहीं बल्कि हर धर्म का बड़ा संस्कार है। जिसे संपन्न कराने के लिए विशेष मुहूर्त का निर्धारण किया जाता है। ज्योतिषी भी बेहतर परिणाम के लिए हर शुभ कार्य को मुहूर्त अनुसार करने की सलाह देते है। हिन्दू धर्म में पंडित विवाह का शुभ मुहूर्त वर-वधु की कुंडली, ग्रहों की चाल और राशि के आधार पर निकालते हैं। वर और वधु की कुंडली मिलान करवाने के बाद जो तिथि व मुहूर्त तय किया जाता है उसी को शादी का शुभ मुहूर्त कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि शादी में जितनी महत्वपूर्ण परंपराएं होती हैं उतना ही महत्वपूर्ण मुहूर्त भी होता है।

विवाह मुहूर्त की आवश्यकता

आधुनिकता का चोला ओढ़े आजकल कई लोग शादी करने के लिए शुभ मुहूर्त कम ही निकलवाते हैं। इन लोगों को लगता है कि हर दिन शुभ है और हर कार्य शुभ है। जबकि इस मानसिकता के चलते कई बार लोगों को भारी नुकसान भी उठाना पड़ता है। ज्योतिषशास्त्रों का मानना है कि शुभ मुहूर्त पर विवाह संपन्न कराने से शादीशुदा जोड़ा हमेशा खुश रहता है। इतना ही नहीं शुभ मुहूर्त का प्रभाव तो इतना होता है कि लड़की ताउम्र सुहागन रहती है। इसलिए विवाह जैसा सर्वोच्च संस्कार मुहूर्त के अनुसार ही कराना अनिवार्य होता है।

विवाह के शुभ मुहूर्त का महत्व

समाज की वृद्धि के लिए स्त्री पुरुष का विवाह होना बेहद आवश्यक है। शादी के वक्त मुहूर्त निकालने के लिए पंडित जोड़े की कुंडली मांगते हैं। यदि शादी शुभ मुहूर्त पर की जाती है तो ये देखा गया हैं कि जोड़े का पारिवारिक जीवन अच्छा व्यतीत होता है, आपस में काफी अच्छी बनती है, और लड़की को ससुराल में प्यार मिलता है आदि। शायद यही कारण है कि विवाह के लिए कुंडली मिलान से लेकर सात फेरे लेने तक सब चीज के लिए शुभ मुहूर्त निकलवाया जाता है।

विवाह मुहूर्त चक्र 2019

नक्षत्र मूल, अनुराधा, मृगशिरा, रेवती, हस्त, उत्तराफाल्गुनी, उत्तराषाढ़, उत्तराभाद्रपद, स्वाति, मघा, रोहिणी
माह ज्येष्ठ, माघ, फाल्गुन, वैशाख, मार्गशीर्ष, आषाढ़
गृह विचार विवाह में कन्या के लिए गुरुबल, वर के लिए सूर्यबल और दोनों के लिए चंद्रबल का विचार शुभ माना गया है।
गुरुबल विचार जहाँ बृहस्पति कन्या की राशि से नवम, पंचम, एकादश, द्वितीया और सप्तम राशि में होना शुभ होता है। वहीं दशम, तृतीय, षष्ठ और प्रथम राशि में दान देने से शुभ और चतुर्थ, अष्टम, द्वादश राशि में होना अशुभ होता है।
सूर्यबल विचार सूर्य की स्थिति वर की राशि से तृतीय, षष्ठ, दशम, एकादश राशि में शुभ होती है। लेकिन चतुर्थ, अष्टम, द्वादश राशि में अशुभ होता है।
चंद्रबल विचार चंद्रमा, वर और कन्या की राशि में तीसरा, छठा, सातवां, दसवां, ग्यारहवां शुभ होता है। पहला, दूसरा, पांचवां, नौवां, दान देने से शुभ और चौथा, आठवां, बारहवां अशुभ होता है।
शुभ लग्न तुला, मिथुन, कन्या, वृष और धनु लग्न शुभ है। इसके अलावा अन्य मध्यम होते हैं।
लग्न शुद्धि लग्न से बारहवें शनि, दसवें मंगल, तीसरे शुक्र, लग्न में चंद्रमा और क्रूर ग्रह अच्छे नहीं होते। लग्नेश, शुक्र, चंद्रमा, छठे और आठवें में शुभ नहीं होते। लग्नेश और सौम्य ग्रह आठवें में अच्छे नहीं होते और सातवें में कोई भी ग्रह शुभ नहीं होता है।

विवाह के लिए शुभ मुहूर्त की गणना

  • विवाह का मुहूर्त देखने के लिए सबसे प्रचलित विकल्प किसी मान्य ज्योतिषचार्य की सलाह लेना है।
  • इसके अलावा आप किस भी शुभ दिन में विवाह संपन्न करा सकते हैं। जैसे- मकर संक्रांति, बैसाखी, बसंत पंचमी, रामनवमी आदि।
  • इसके साथ ही चैत्र माह को छोड़कर किसी भी महीने में शादी संस्कार किया जा सकता है।
  • शुभ दिन देखने के लिए आप इंटरनेट और हिन्दू कैलेंडर का प्रयोग भी कर सकते हैं।

शुभ विवाह का ज्योतिषी तथ्य

  • ज्योतिषियों की मानें तो विवाह बहुत ही गंभीर और संवेदनशील विषय है, इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की जल्दबाजी और लापरवाही नहीं करनी चाहिए।
  • वैसे तो शादी के लिए मुहूर्त तय करने का कोई खास मापदंड नहीं हैं लेकिन लड़की और लड़के की कुंडली के मुताबिक ग्रहों और नक्षत्रों की चाल को देखते हुए ही ये मुहूर्त निकालना अनिवार्य होता है।
  • कई बार लोग जल्दी शादी कराने के चक्कर में ग्रहों, नक्षत्रों और अन्य दोषों को नजरअंदाज कर देते हैं, जो कतई नहीं करना चाहिए।

शुभ विवाह मुहूर्त निकालते वक़्त इन बातों का रखें ध्यान

  • लड़की के ग्रह लड़के से भारी नहीं होने चाहिए, इसलिए कुंडली मिलान जरूर करें।
  • य​दि लड़की की उम्र लड़के से ज्यादा होगी तो यह उनकी होने वाली संतान के लिए अच्छा नहीं माना जाता है।
  • यदि कोई व्यक्ति मांगलिक है तो उसकी शादी मांगलिक से ही कराना उचित होता है।
  • विवाह वाले दिन भावी जोड़े को मीट, अण्डे आदि का सेवन नहीं पर्ण चाहिए।
  • विवाह मुहूर्त किसी अनुभवी ज्योतिषी या पुरोहित से ही निकलवाना चाहिए।

हमें उम्मीद है कि इस लेख के जरिये विवाह मुहूर्त 2019 की दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। हिंदी लोक की तरफ से आपको ढेरों शुभकामनाएं !

More from: Jyotish
36872

ज्योतिष लेख