Jyotish RSS Feed
सिंह राशिफल 2010 - Simha Rashifal 2010 Astrology

aditya

Simha rashifal 2010, सिंह राशिफल २०१०, सिंह भविष्यफल 2010, सिंह वार्षिक राशिफल 2010, Simha rashiphal 2010, सिंह राशि कुण्‍डली 2010

मिथुन राशिफल 2010 - Mithun Rashifal 2010 Astrology

aditya

Mithun rashifal 2010, मिथुन राशिफल २०१०, मिथुन भविष्यफल 2010, मिथुन वार्षिक राशिफल 2010, Mithun rashiphal 2010, मिथुन राशि कुण्‍डली 2010

मकर राशिफल 2010 - Makar Rashifal 2010 Astrology

aditya

Makar rashifal 2010, मकर राशिफल २०१०, मकर भविष्यफल 2010, मकर वार्षिक राशिफल 2010, Makar rashiphal 2010, मकर राशि कुण्‍डली 2010

कर्क राशिफल 2010 - Karka Rashifal 2010 Astrology

aditya

Kark rashifal 2010, कर्क राशिफल २०१०, कर्क भविष्यफल 2010, कर्क वार्षिक राशिफल 2010, Karka rashiphal 2010, कर्क राशि कुण्‍डली 2010

मेष राशिफल 2010 - Mesha Rashifal 2010 Astrology

aditya

mesh rashifal 2010, मेष राशिफल २०१०, मेष भविष्यफल 2010, मेष वार्षिक राशिफल 2010, mesha rashiphal 2010, मेष राशि कुण्‍डली 2010

कुंभ राशिफल 2010 - Kumbha Rashifal 2010 Astrology

aditya

Kumbha rashifal 2010, कुंभ राशिफल २०१०, कुंभ भविष्यफल 2010, कुंभ वार्षिक राशिफल 2010, Kumbha rashiphal 2010, कुंभ राशि कुण्‍डली 2010

डायबिटीज के लिए रामबाण औधषि जामुन Ayurveda

Pratik

जानकार लोग बताते हैं कि जामुन का सेवन खाने के बाद किया जाना चाहिए। आयुर्वेद के मुताबिक जामुन वात दोषकारक है। लेकिन,वात रोग पीड़ित शख्स को बहुत ज्यादा जामुन नहीं खाने चाहिए। जामुन का सिरका पेट दर्द,गैस,अतिसार,हैजा आदि रोगों में औधधि की तरह है। एक रिसर्च के मुताबिक,जामुन में रक्त स्राव रोकने की अद्भुत क्षमता है।

नवम्बर राशिफल 2009 Astrology

pratik pandey

नवम्बर राशिफल 2009

कई मर्जों में इस्तेमाल होती है तुलसी Ayurveda

piyush

तुलसी तो भारत की संस्कृति का हिस्सा है, लेकिन चिकित्सीय दृष्टि से देखें तो इसमें कई मर्जों से निपटने की अद्भुत क्षमता है। आयुर्वेद में तुलसी की महत्ता में कई पन्ने रंगे गए हैं।

शादी के लिए रुठे गुरु को मना ले यार Astrology

agency

क्या करें अगर शादी नहीं हो रही। क्या करें अगर रिश्ता दरवाजा तक आकर छूट जाता है। अब,ज्योतिषियों की मानें तो ऐसा होने में गुरु की बड़ी भूमिका है। जी हां, आपकी कुंडली में बैठे गुरु की। गुरू अगर दुर्बल है, तो गुरू संबंधी कारक तत्वों का फल क्षीण हो जाता है।

ज्योतिष लेख